Love Poetry GeoNewsTV

Urdu poetry about love-Love poetry images-Amazing Love Poetry

KOI BHI KISI KI MALKIYAT NAHI HOTA PR PHIR BHI HUM CHAHAT MAIN ITNAY PAGAL HO JATY HAIN K KHAWAISH KRNY LAGTAY HAIN K WO SIRF HAMARA HA . कोई किसी का मालिक नहीं है लेकिन हम अभी भी चाहते हैं पर इतना पागल हो कुछ सोचने लगते हैं कि वे सिर्फ हम हैं।

Read more

Urdu sms poetry-Amazing poetry-Urdu shayari on love

MERA PAGAL SA PYAR HO TUM IS DIL K EKLUTAE HAQDAAR HO TUM मेरा पागल सा प्यार हो तुम  इस दिल क एकलउतै हक़दार हो तुम

Read more

Love couple poetry-2 line urdu love shayari-Amazing Poetry

KISI SHAM AYE MERI BEKHABAR WOHI RANG DAY MERI ANKH KO WOHI BAT KEH MERY KAN MAIN MUJE DEKH MUJ PR NIGHAH KR K MAIN GE OTHON TERY DHIYAN MAIN किसी शाम ए मेरी बेख़बर  वही रंग दे मेरी आंख को  वही बात कह मेरी कण मैं  मुझे देख मुझ पर निगाह क्र  क मैं गे ओठों तेरी धियान मैं

Read more

Love Romantic Poetry-Love Poetry SMS-Amazing Poetry

HAMARE PAAS AA JAO HAMARI ZULFE SE KHYLO TUMHARI KHUBSOORAT UNGLION KO KHUBSOORAT KAM DENE HAIN   हमारे पास आ जाओ हमारी ज़ुल्फ़े से खिलो  तुम्हारी ख़ूबसूरत उंगलिओं को ख़ूबसूरत काम देने हैं

Read more

Poetry in Urdu on Love-Urdu Shayari on Love-Amazing Poetry

KESE KAHON K IS DIL K LIYE KITNE KHAS HO TUM FASLE TU QADMON K HAIN PR HAR WAQT DIL K PAS HO TUM   कैसे कहूँ क इस दिल क लिए कितने ख़ास हो तुम फसले तू क़दमों क हैं पर हर वक़्त दिल क पास हो तुम

Read more

Poetry in urdu on love-Loving poetry in urdu-Amazing Poetry

BETH MERY SAMNAY TUJ SY KALAM KRON. LAFZ AK NA BOLON ZINDAGI TERY NAAM KRON. बेथ मेरी सामने तुज सी कलम क्रों. लफ्ज़ एक न बोलों ज़िन्दगी तेरी नाम क्रों.

Read more

Urdu sms poetry-Amazing poetry-Shayari on love in urdu

ZARORI NAHI K MUHABBAT MAIN ROZ BATAIN HON . KHAMOSHI SAY AK DOSRY KO DEKHNA BHI TU ISHQ HAI. ज़रूरी नहीं क मुहब्बत मैं रोज़ बातें हों . ख़ामोशी से एक दोसरी को देखना भी तू इश्क़ है.

Read more

Urdu sms poetry-Amazing poetry-Urdu love poetry for lovers

MUJE TUMHARY KIRDAR SAY MUHABBAT HAI BADN SAY NAHI. HOOS PRAST HOTA TU TERY JISAM KI POJA KRTA. मुझे तुम्हारी किरदार से मुहब्बत है बदन से नहीं. हूस परास्त होता तू तेरी जिसम की पूजा करता.

Read more