Love Poetry Geo News-Cricket,Poetry,Islam,Health,Tech and Fashion

Shayari urdu love-Amazing poetry-Urdu hindi shayari-Hindi shayari

HUM SAY TALUQ RAKHO TABIYAT THEEK RAHY GI . HUM WO HAKEEM HAIN JO LAFZOON SAY ELAAJ KRTY HAIN हम से तालुक़ रखो तबियत ठीक रहय गई . हम वो हकीम हैं जो लफ़्ज़ून से इलाज करती हैं

Read more

Urdu poetry about love-Love poetry images-Amazing Love Poetry

KOI BHI KISI KI MALKIYAT NAHI HOTA PR PHIR BHI HUM CHAHAT MAIN ITNAY PAGAL HO JATY HAIN K KHAWAISH KRNY LAGTAY HAIN K WO SIRF HAMARA HA . कोई किसी का मालिक नहीं है लेकिन हम अभी भी चाहते हैं पर इतना पागल हो कुछ सोचने लगते हैं कि वे सिर्फ हम हैं।

Read more

Urdu sms poetry-Amazing poetry-Urdu shayari on love

MERA PAGAL SA PYAR HO TUM IS DIL K EKLUTAE HAQDAAR HO TUM मेरा पागल सा प्यार हो तुम  इस दिल क एकलउतै हक़दार हो तुम

Read more

Love couple poetry-2 line urdu love shayari-Amazing Poetry

KISI SHAM AYE MERI BEKHABAR WOHI RANG DAY MERI ANKH KO WOHI BAT KEH MERY KAN MAIN MUJE DEKH MUJ PR NIGHAH KR K MAIN GE OTHON TERY DHIYAN MAIN किसी शाम ए मेरी बेख़बर  वही रंग दे मेरी आंख को  वही बात कह मेरी कण मैं  मुझे देख मुझ पर निगाह क्र  क मैं गे ओठों तेरी धियान मैं

Read more

Love Romantic Poetry-Love Poetry SMS-Amazing Poetry

HAMARE PAAS AA JAO HAMARI ZULFE SE KHYLO TUMHARI KHUBSOORAT UNGLION KO KHUBSOORAT KAM DENE HAIN   हमारे पास आ जाओ हमारी ज़ुल्फ़े से खिलो  तुम्हारी ख़ूबसूरत उंगलिओं को ख़ूबसूरत काम देने हैं

Read more

Poetry in Urdu on Love-Urdu Shayari on Love-Amazing Poetry

KESE KAHON K IS DIL K LIYE KITNE KHAS HO TUM FASLE TU QADMON K HAIN PR HAR WAQT DIL K PAS HO TUM   कैसे कहूँ क इस दिल क लिए कितने ख़ास हो तुम फसले तू क़दमों क हैं पर हर वक़्त दिल क पास हो तुम

Read more

Poetry in urdu on love-Loving poetry in urdu-Amazing Poetry

BETH MERY SAMNAY TUJ SY KALAM KRON. LAFZ AK NA BOLON ZINDAGI TERY NAAM KRON. बेथ मेरी सामने तुज सी कलम क्रों. लफ्ज़ एक न बोलों ज़िन्दगी तेरी नाम क्रों.

Read more

Urdu sms poetry-Amazing poetry-Shayari on love in urdu

ZARORI NAHI K MUHABBAT MAIN ROZ BATAIN HON . KHAMOSHI SAY AK DOSRY KO DEKHNA BHI TU ISHQ HAI. ज़रूरी नहीं क मुहब्बत मैं रोज़ बातें हों . ख़ामोशी से एक दोसरी को देखना भी तू इश्क़ है.

Read more